चंद्रयान-2 की सफलता में भागलपुर के अमरदीप विश्वकर्मा का भी रहा अहम योगदान

पटना। चंद्रयान-2 की सफलता में बिहार के लाल अमरदीप विश्वकर्मा का भी कमाल रहा है। इसरो के वरीय वैज्ञानिक अमरदीप कुमार का सम्बंध बिहार के भागलपुर और झारखंड के देवघर से है। भारत के लिए 22 जुलाई 2019 बेहद खास दिन रहा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने चंद्रयान-2 को लॉन्च कर इतिहास रच दिया है। चंद्रयान-2 को लेकर ‘बाहुबली’ रॉकेट दोपहर 2.43 मिनट पर सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से रवाना हुआ। इस रॉकेट के निर्माण में बिहार के लाल अमरदीप कुमार का अहम योगदान रहा।
इसरो के महत्वाकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 को लेकर ‘बाहुबली’ रॉकेट दोपहर दो बजकर 43 मिनट पर श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से उड़ान भरा। इसके साथ ही भारत आज अंतरिक्ष की दुनिया में उपलब्धियों की एक और कदम आगे बढ़ गया।
देश के इस बढ़ते कदम में भागलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज के पूर्ववर्ती छात्र सह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) के वरीय वैज्ञानिक अमरदीप कुमार की सहभागिता भी काम आई। अमरदीप देवघर जिला के मूल निवासी हैं। इस उपलब्धि पर उनके पिता दिनेश्वर विश्वकर्मा और माता चिंता देवी सहित परिजनों में खुशी की लहर है।
प्रोजेक्ट ग्रुप में अमरदीप रहे हैं वैज्ञानिक—
603 करोड़ की लागत से 3.8 टन वजनी बने चंद्रयान-2 को अंतरिक्ष में ले जाने वाले इसरो के सबसे भारी रॉकेट जियोसिंक्रोनस सेटेलाइट लांच व्हीकल मार्क-3 (जीएसएलवी एमके-3) के पहले चरण के प्रोजेक्ट ग्रुप में वैज्ञानिक अमरदीप ने भी अपनी अहम भूमिका निभाई है। इसरो में 12 साल काम कर चुके अमरदीप ने बताया कि मैंने पहले चरण में एल110 में काम करते हुए अपने प्रोजेक्ट डायरेक्टर को रिपोर्ट करता था, जो त्रिवेंद्रम में है। जिसमें 110 टन ईंधन भरा होता है। जो धरती के गुरुत्वाकर्षण बल का सामना करता है। इसकी ऊंचाई 21 मीटर, परिधि चार मीटर और इंजन 2गुने विकास होता है। इसमें यूडीएमएच प्लस एन204 का 110 टन ईंधन भरा होता है। जो जीएसएलवी एमके 3 के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण पार्ट है। उन्होंने कहा कि जीएसएलवी-एमके 3 इसरो का सबसे भारी भरकम रॉकेट है। इसका वजन 640 टन है। जिसकी लागत 375 करोड़ है।
मानव मिशन यान में काम करने की तमन्ना—
एक सवाल के जवाब में वैज्ञानिक अमरदीप ने कहा कि बहरहाल दो वर्ष तक इण्डियन इंस्टीच्यूट ऑफ साइंस में अध्ययन कर रहा हूं। अगस्त में पूरा हो जाएगा। आगे हमारी योजना गगनयान में काम करने की है। जो भारत का पहला मानव मिशन यान होगा। इस यान में भी उक्त रॉकेट का ही उपयोग किया जाएगा।
चौथा देश बना भारत—
चंद्रयान-2 को चंद्रमा पर उतारने वाला भारत विश्व का चौथा देश बन गया। इसके पूर्व यान को चांद पर उतारने वाले देशों के श्रेणी में अमेरिका, चीन और रूस शामिल हैं। बता दें कि इसके पूर्व भारत ने चंद्रयान-1 भेजा था। जो लगातार 10 माह तक चांद की परिक्रमा करने के बाद पानी की खोज में सफलता पाई थी।
चंद्रयान-2 का हिस्सा बन खुश हूं, अब गगनयान में काम करने की तमन्ना—
भागलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज से 1997 में मैकेनिकल इंजीनियरिंग ब्रांच से पासआउट व इसरो के वरीय वैज्ञानिक अमरदीप भी चंद्रयान-2 का हिस्सा हैं। इसके सफल प्रक्षेपण के बाद उन्होंने कहा कि इतने बड़े मिशन का हिस्सा बनकर गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं। अब गगनयान में काम करने की तमन्ना है।
चंद्रयान-2 की सफलता पर इतराया इंजीनियरिंग कॉलेज—
चंद्रयान-2 के सफल प्रक्षेपण से भागलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज में खुशी का माहौल है। यहां के छात्रों का कहना है कि इस यान की सफलता में उनके संस्थान की भी सहभागिता है। 1997 में मैकेनिकल इंजीनियरिंग ब्रांच से पासआउट छात्र अमरदीप कुमार ने भी इसरो के वरीय वैज्ञानिक होने के नाते चंद्रयान-2 के जीएसएलवी एमके-3 रॉकेट के पहले चरण में अहम भूमिका निभाई है।
माता-पिता सहित परिजन और मित्र खुश—
इधर, खुशी का इजहार करते हुए वैज्ञानिक अमरदीप के पिता देवघर निवासी दिनेश्वर विश्वकर्मा एवं माता चिंदा देवी ने कहा बेटे की मेहनत देश को काम आई। इससे बड़ी खुशी और कुछ नहीं हो सकती है। उसने विश्व में देश का नाम रोशन किया है। एक दैनिक समाचार पत्र के संवाददाता से बातचीत में अमरदीप ने कहा कि चंद्रयान-2 की सफलता पर वह गर्व महसूस कर रहे हैं। अब हमारा देश चांद पर उतरने वाला विश्व का चौथा देश बन गया।
मिशन से ये होंगे फायदे—
चंद्रयान-2 से चांद पर बर्फ की खोज में सफलता मिली तो भविष्य में इसे इंसानों के रहने लायक बनाया जा सकेगा। इसके साथ ही अंतरिक्ष विज्ञान में भी नई खोजों का रास्ता खुलेगा। प्रक्षेपण के 53 से 54 दिन बाद चांद के दक्षिणी ध्रव पर चंद्रयान- 2 की लैंडिंग होगी। अगले 14 दिन तक यह डाटा जुटाएगा। पृथ्वी से नजदीक होने के कारण यहां टेक्नोलॉजी परीक्षण का भी केंद्र बनाया जा सकेगा।

(साभार)

2 thoughts on “चंद्रयान-2 की सफलता में भागलपुर के अमरदीप विश्वकर्मा का भी रहा अहम योगदान

  1. बहुत—बहुत बधाई विश्वकर्मावंश के बेटे अमरदीप विश्वकर्मा को

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *