विश्वकर्मा समाज की पहचान बचाना हम सबकी जिम्मेदारी— रामआसरे विश्वकर्मा

पलामू। अखिल भारतीय विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्वमन्त्री रामआसरे विश्वकर्मा ने कहा कि कुछ ताकतें विश्वकर्मा समाज की पहचान मिटाने पर आमादा हैं। आज विश्वकर्मा समाज की पूरे देश में उपेक्षा हो रही है। सभी विश्वकर्मा बन्धुओं को मिलकर संघर्ष करना होगा और अपना अस्तित्व बचाना होगा। श्री विश्वकर्मा झारखण्ड विश्वकर्मा समाज पलामू द्वारा डाल्टनगंज टाउनहाल में आयोजित विश्वकर्मा महासम्मेलन में बोल रहे थे। पूर्वमन्त्री ने कहा कि भगवान विश्वकर्मा ही हमारे आराध्य देव हैं और इन्हीं से हमारी पहचान हैं। भगवान विश्वकर्मा की पूजा हमारे गौरव और सम्मान से जुड़ा है।


पूर्वमन्त्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सपा सरकार के दौरान विश्वकर्मा पूजा की सरकारी छुट्टी घोषित करायी थी जिसे मौजूदा भाजपा सरकार ने निरस्त कर भगवान विश्वकर्मा का अपमान कर दिया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में सपा सरकार में मुलायम सिंह यादव तथा अखिलेश यादव ने रामआसरे विश्वकर्मा को मन्त्री बनाया था। अगर उत्तर प्रदेश में विश्वकर्मा समाज का मन्त्री हो सकता है तो झारखण्ड और दूसरे राज्यों में विश्वकर्मा समाज का मन्त्री और विधायक क्यो नहीं हो सकता? देश व प्रदेश की सरकारों ने विश्वकर्मा समाज का न तो मन्त्री बनाया न तो भागीदारी दी और न विकास की तरफ ध्यान दिया। यही कारण है कि विश्वकर्मा समाज की आर्थिक सामाजिक व राजनैतिक क्षेत्र में भागीदारी न के बराबर है।


श्री विश्वकर्मा ने कहा कि समाज को आबादी के अनुरूप लोकसभा, राज्यसभा, विधानसभा और सरकार में हिस्सेदारी नहीं दी गयी। हमारे लोहे और लकड़ी के कारोबार और रोजगार के लिये न तो कानून बनाया गया और न योजनाएं चलायी गयी। आरक्षण के तहत विश्वकर्मा समाज के युवकों को नौकरी व सम्मान नहीं दिया गया। हमारे बंटे और बिखरे होने के कारण आज तक न तो विश्वकर्मा समाज की सामाजिक ताकत बन पाई और न हम राजनैतिक हिस्सेदारी ले पाये। श्री विश्वकर्मा ने झारखण्ड के पलामू और आसपास के लोगों को विश्वास दिलाया कि वह अपने को अकेला न समझें, हम लोग लखनऊ से आकर आपके हर संघर्ष में ताकत देंगे।


कार्यक्रम का संचालन लव कुमार विश्वकर्मा तथा अध्यक्षता झारखण्ड विश्वकर्मा समाज के जिलाध्यक्ष मनोज कुमार विश्वकर्मा ने किया। कार्यक्रम को विशिष्ट अतिथि गौतम सागर राना पूर्व विधायक, राजेन्द्र विश्वकर्मा राष्ट्रीय अध्यक्ष, गौरीशंकर शर्मा, प्रदेश अध्यक्ष दशरथ शर्मा, प्रदेश अध्यक्ष केशव विश्वकर्मा, सुरेन्द्र विश्वकर्मा, विक्रान्त विश्वकर्मा, पं0 धर्मदेश शर्मा, आनन्द विश्वकर्मा, अजीत विश्वकर्मा, मनु शर्मा, विजय विश्वकर्मा सहित कई नेताओं ने सम्बोधित करते हुये विश्वकर्मा समाज की मजबूती के लिये महासम्मेलन में अपने विचार रखे।

—शिव प्रकाश विश्वकर्मा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *