गौसेवी संत पदमाराम कुलरिया की भव्य प्रतिमा का हुआ अनावरण

जोधपुर (दिनेश गौड़)। केलावा (बावड़ी) में स्थित केशव प्रिया गौशाला में देश के जाने माने संतो के कर कमलों द्वारा गौसेवी, गौकुलवासी संतश्री पदमाराम कुलरिया की भव्य प्रतिमा का अनावरण गौशाला प्रांगण में हजारों गौसेवको की गरिमापूर्ण उपस्थित में देश के जाने माने कथा वाचक भाईश्री रमेश भाई ओझा जी, पतंजलि योगपीठ से आये आयुर्वेदाचार्य स्वामी बालकृष्ण जी, ॠषिकेश से पधारे स्वामी श्री चिदानंद सरस्वती जी (मुनि महाराज), बालाजीधाम खारिया से महाकालेश्वर संतश्री बजरंगदास जी महाराज, संत रामद्वारा से संतश्री रामनाथ जी, कथावक्ता संतश्री सुखदेव जी महाराज तथा केशव प्रिया गौशाला के संचालक व कथावक्ता संतश्री मुरलीधर जी महाराज के कर कमलों द्वारा मन्त्रोउच्चारण के साथ कुलरिया परिवार की उपस्थिति में संपन्न हुआ। जैसा कि सबको विदित है कि देश के जाने-माने गौसेवी संतश्री पदमाराम जी को उनकी गौभक्ति और समाज सेवा के लिए उनको देश के जाने-माने संतो ने संत की उपाधि से अलंकृत किया था। संतश्री पदमाराम जी ज्यादा पड़े लिखें नहीं थे पर शिक्षा के लिए उन्होने पूरे देश में अलख जगा रखी थी। उनकी बेटियों की शिक्षा के प्रति लगाव जग जाहिर था और पर्यावरण के लिए भी संतश्री को जाना जाता था।

गौसेवी गौकुलवासी संतश्री पदमाराम जी कुलरिया पर्यावरण प्रेमी भी थे। अपने जीवन काल में उन्होने ना केवल राजस्थान बल्कि सम्पूर्ण देश में लाखों पौधा रोपण कर एक सकारात्मक सन्देश दिया। वो एक सहज़, सरल और संवेदनशील व्यक्तित्व के धनी थे। आने वाली पीढ़ियों के लिए उनका आदर्शवाद हमेशा सेवा के मार्ग को प्रशस्त करता रहेगा। श्री चिदानन्द सरस्वती जी (मुनि महाराज ) ने उनको एक परम गौसेवी भक्त बताया उन्होने गौसेवी संतश्री पदमाराम जी के पूरे परिवार को समाज सेवा के लिए एक अनुपम उदाहरण बताया। उन्होंने कहा कि कुलरिया परिवार ने ना केवल संत पदमाराम जी जैसे गौसेवक दिए बल्कि उनके भाई भी गौकुलवासी गौसेवक थे जो हमेशा गौशालयों के लिए तन, मन और धन से समर्पित रहते थे। प्रतिमा अनावरण समारोह में कथावक्ता भाई श्री रमेश भाई ओझा जी ने संत पदमाराम जी के गौसेवी पुण्य विचारों को केशव प्रिया गौशाला को मूर्त रूप देने के लिए गौकुलवासी संतश्री पदमाराम कुलरिया के तीनो पुत्रों कानाराम, शंकरलाल और धर्मचंद कुलरिया के साथ गौशाला संचालक श्री मुरलीधर महाराज को भी आशीर्वाद स्वरूप धन्यवाद दिया ।

केशव प्रिया गौशाला के संचालक श्री मुरलीधर महाराज ने गौकुलवासी संतश्री पदमाराम जी को एक सच्चे संत के रूप में वर्णित किया। उन्होने कहा कि वो हमेशा गायों की चिंता करते थे। वो कहते थे कि ये केशव प्रिया गौशाला पूरे देश के लिए गायों की सेवा के लिए एक उदाहरण बनेगा। उनका ये पावन सेवापूर्ण विचार आज मूर्त रूप में हमारे सामने है। आज वो इस गौशाला प्रांगण में ना केवल आदमकद प्रतिमा स्वरूप में विराजमान है बल्कि वो अब हम सबके मन और आत्मा में अपने गौसेवी पवित्र विचारो के साथ विराजमान रहेंगे और हम सबके लिए हमेशा सेवा के मार्ग को प्रशस्त करते रहेंगे। उन्होने कहा कि संतश्री पदमाराम जी कुलरिया जी के तीनों पुत्र भी सेवा के इस पावन अभियान को पूरे तन, मन और धन से हमेशा सृजित करते रहते हैं। कुलरिया परिवार के इन तीनो रत्न कानारान जी, शंकरलाल जी और धर्मचंद जी को मै साधुवाद देता हूँ।

इस अवसर पर देशभर से आए सैकड़ो गणमान्यो एवं संतों का संतश्री जी के पुत्र और देश के जाने मानें इंटीरियर जगत की शख्सियत शंकर जी कुलरिया ने अपने धन्यवाद उद्धबोधन में उपस्थित गौभक्तों का आभार व्यक्त किया। समारोह में सम्पूर्ण देश से आये हुए हजारों गौसेवकों और भक्तों ने सबसे पहले देश के जाने-माने कथावक्ता भाईश्री रमेश भाई ओझा जी के बचनाम्रत से भगवत गीता का श्रवण कर आनंद लिया। भव्य प्रतिमा अनावरण के बाद सभी संतो के संग गौभक्तो ने गौ आरती के आयोजन में भाग लिया यथा शाम को देश के जाने माने बाॅलीवुड गायक पद्मश्री से सम्मानित कैलाश खेर के भजनों एवं गीतों का आनंद लिया। इस मौके पर हजारों दर्शकों के साथ समस्त संतों के सानिध्य में कानाराम, शंकरलाल और धर्मचंद कुलरिया ने अपने परिवार श्री उगमराम जी कुलरिया व श्री भंवर कुलरिया के साथ ही पूर्व जज रमेशचन्द्र जी शर्मा, अमराराम जांगिड़, ब्रजमोहन जी जोंपिग, अमराराम, पूर्व संसदीय सचिव कन्हैयालाल झंवर, प्रेमसुख शर्मा, हनुमान काकडा, श्यामलाल सुथार, प्रसिद्ध अभिनेता राज जांगिड़, तुलसीराम जाँगिड, ओमप्रकाश धामू, महेन्द्रसिंह भाटी, दिल्ली से आये वरिष्ठ पत्रकार दिनेश गौड़ तथा पुखराज जी सुथार, संजय जी बुडल, कुणाल जी सुथार प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

-दिनेश गौड़ (वरिष्ठ पत्रकार, दिल्ली)
सम्पर्क सूत्र- 9990212151

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *