दिल्ली के जन्तर-मन्तर से विश्वकर्मा समाज की ललकार, होश में आये सरकार

दिल्ली। विश्वकर्मा समाज के ऊपर हो रहे अत्याचार और उत्पीड़न के विरुद्ध विश्वकर्मा समाज के लोगों ने मोर्चा खोल दिया है। समाज के लोगों ने अपनी आवाज बुलन्द करते हुये दिल्ली के जन्तर-मन्तर पर विशाल धरना दिया और मार्च भी किया।उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में बिहार थानाक्षेत्र के भाटनखेड़ा गांव में बलात्कार के बाद जलाकर मारी गई युवती को न्याय दिलाने के लिये विश्वकर्मा समाज के लोगों ने कदम आगे बढ़ा दिया है। युवती के परिजनों से किये गये वादे से उत्तर प्रदेश सरकार ने मुंह मोड़ लिया है। ऐसी स्थिति में युवती के परिजनों की सुरक्षा खतरे में है।


जन्तर-मन्तर पर आयोजित धरने को सम्बोधित करते हुये पूर्व मन्त्री व अखिल भारतीय विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामआसरे विश्वकर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश और केन्द्र में भाजपा की सरकार है। भाजपा सरकार में विश्वकर्मा समाज का सबसे ज्यादा उत्पीड़न और अत्याचार हो रहा है। हर उत्पीड़न के मामले में सरकार और सरकार की पुलिस कार्यवाही नहीं कर रही है। हर अन्याय और जुर्म के विरोध में विश्वकर्मा समाज आज जन्तर-मन्तर पर धरना दे रहा है। कहा कि उत्तर प्रदेश में उन्नाव के बिहार थाने के भाटनखेडा गांव में राम किशन शर्मा की बेटी के साथ गांव के दबंगो ने बलात्कार किया। विरोध करने पर मोहनी विश्वकर्मा को जिन्दा जला दिया। उन्नाव की विश्वकर्मा समाज की बेटी को न्याय दिलाने, मामले को फास्टट्रैक कोर्ट में चलाकर यथाशीघ्र हत्यारों को फांसी की सजा दिलाने तथा उसके परिवार को नौकरी, आवास, सुरक्षा हेतु शस्त्र लाइसेंस देने का वादा सरकार ने अभी तक पूरा नहीं किया। पूरे देश में विश्वकर्मा समाज पर हुए हत्या और बलात्कार पर कार्यवाही करने को लेकर पूर्वमन्त्री राम आसरे विश्वकर्मा के नेतृत्व में प्रधानमन्त्री व गृहमन्त्री को ज्ञापन दिया गया।


ज्ञापन में निम्नलिखित मांग की गयी-
1-उन्नाव की विश्वकर्मा समाज की बेटी रेप पीड़िता मोहनी विश्वकर्मा के हत्यारों को फांसी दी जाये।
2-सरकार रेप केस मामले को शीघ्र फास्टट्रैक कोर्ट को सौंपे।
3-मृतका के परिवार को आवास, नौकरी, शस्त्र लाईसेंस व सुरक्षा देने का वादा सरकार पूरा करे।
4-देश मे विश्वकर्मा समाज के ऊपर हो रहे उत्पीड़न, अत्याचार, हत्या व बलात्कार की घटना तत्काल बन्द किया जाय।
5-देशभर में विश्वकर्मा समाज की हुई हत्याओं व बलात्कार के मामलों मे सरकार त्वरित कार्यवाही करें तथा मुआवजा का प्रबन्ध करें। ज्ञापन में मुख्य घटनाओं में लखनऊ में राष्ट्रीय खिलाड़ी शिवानी विश्वकर्मा के आत्महत्या का प्रकरण, हरियाणा के फरीदाबाद में आर0सी0 विश्वकर्मा की बेटी मेघना विश्वकर्मा की कोटा में हत्या का प्रकरण, मध्य प्रदेश के छतरपुर में देवेन्द्र विश्वकर्मा की हत्या का प्रकरण, सहारनपुर में पत्रकार आशीष धीमान और कुशीनगर में पत्रकार राधेश्याम विश्वकर्मा की हत्या, प्रतापगढ़ कोतवाली क्षेत्र में हुई शिव कुमार विश्वकर्मा की हत्या का प्रकरण, देवरिया के बरहज में राजेश विश्वकर्मा, कुशीनगर के नेबुआ नौरंगिया में सविता विश्वकर्मा के बलात्कार का प्रकरण, बहराइच के मकरन्दपुर में जगतराम विश्वकर्मा की हत्या, औरैया के थाना कोतवाली में शर्मा की लड़की के बलात्कार का प्रकरण सहित दो दर्जन प्रकरण में कार्यवाही कराने हेतु ज्ञापन प्रधानमन्त्री को दिया गया।


धरने में पूर्व राष्ट्रपति स्व0 ज्ञानी जैल सिंह के पौत्र इन्द्रजीत सिंह, मोहन आचारी, दिनेश वत्स विश्वकर्मा, जयपाल सिंह पांचाल, रतनलाल जांगिड़, कालूराम लोहार, मिथिलेश शर्मा मधुकर, आर0सी0 शर्मा, महेन्द्र पांचाल, आत्माराम पांचाल, आशुतोष विश्वकर्मा, यशपाल पांचाल, एस0पी0 सिंह, खिलाड़ी कबिता पांचाल, पार्वती जांगिड़, वरिष्ठ पत्रकार दिनेश गौड़, बुधिराम विश्वकर्मा, सुरेन्द्र कण्डेरा, एक्टर दिवाकर विश्वकर्मा, सुभाष पांचाल, एडवोकेट मिन्टू पांचाल, मिन्टू धीमान, हरीश शर्मा, एडवोकेट मनीष विश्वकर्मा सहित देश के विभिन्न हिस्सों से आये विश्वकर्मा समाज के नेता, सामाजिक कार्यकर्ता व बुुद्धिजीवीगण उपस्थित रहे।

रिपोर्ट- शिव प्रकाश विश्वकर्मा

2 thoughts on “दिल्ली के जन्तर-मन्तर से विश्वकर्मा समाज की ललकार, होश में आये सरकार

  1. अपनी आवाज़ बुलंद करना और अपने हितों की रक्षा करना हमारा संवैधानिक अधिकार है। हम अन्याय के खिलाफ आपके साथ है।
    राम कुमार धीमान जगाधरी
    प्रदेश अध्यक्ष अखिल भारतीय विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा हरियाणा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *