जनसंख्या के अनुपात में मिले विश्वकर्मा समाज को भागीदारी— रामआसरे विश्वकर्मा

कटिहार। उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मन्त्री व अखिल भारतीय विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राम आसरे विश्वकर्मा ने कहा कि विश्वकर्मा समाज को जनसंख्या के अनुपात में भागीदारी मिलना चाहिये। वह सरकारी क्षेत्र हो या राजनैतिक। विश्वकर्मा समाज को उनकी जनसंख्या के अनुसार सरकारी नौकरियों, विधानसभा व लोकसभा तथा सरकार में सभी राजनैतिक दलों को हिस्सेदारी देनी होगी। विश्वकर्मा समाज अब उपेक्षा और अपमान बर्दाश्त नहीं करेगा और अपना अधिकार लेकर रहेगा। श्री विश्वकर्मा कटिहार के टाउनहाल सभागार में आयोजित विश्वकर्मा एकता समारोह को सम्बोधित कर रहे थे।


श्री विश्वकर्मा ने कहा कि पूरे देश में विश्वकर्मा समाज की जनसंख्या करोड़ो में है। यह समाज लोहार, बढ़ई, धीमान, राना, पांचाल, मैथिल, रामगढ़िया, तरखान, सोनार, शिल्पकार आदि में बंटे होने तथा क्षेत्र में बिखरे होने के कारण अभी तक समाज की ताकत प्रदर्शित नहीं कर पाया है, जिसके कारण विश्वकर्मा समाज की पहचान नहीं बन पाई। आज देश की लोकसभा एक भी सांसद नहीं है। प्रदेश की विधानसभा में भी प्रतिनिधित्व नगण्य है। जब लोकसभा और विधानसभ में हमारे सांसद, विधायक नहीं होंगे तो हमारी आवाज कौन उठायेगा? जिसके कारण विश्वकर्मा समाज की आवाज न तो सरकार तक नहीं पहुंच पायी और न ही विश्वकर्मा समाज के विकास के लिये नीतियां बनायी जा सकी।जब तक विश्वकर्मा समाज की सरकार मे भागीदारी नहीं होगी और समाज के लोग मन्त्री नहीं बनेगे तब तक न तो विश्वकर्मा समाज का सम्मान बढ़ेगा और न विश्वकर्मा समाज का भला होगा।


श्री विश्वकर्मा ने कहा कि हमारी जनसंख्या इतनी नहीं है कि हम अकेले सरकार बना लें लेकिन इतनी अवश्य है कि हम सरकार बनाने की गणित को जरूर बना—बिगाड़ सकते हैं।इसलिये विश्वकर्मा समाज को उनकी जनसंख्या के अनुसार उन्हें अधिकार और सम्मान सभी राजनैतिक दलों को देना होगा। हम किसी का अधिकार छीनना नहीं चाहते बल्कि चाहते हैं कि केन्द्र सरकार पिछड़ी जातियों और विश्वकर्मा समाज की जनगणना कराये और जनसंख्या के अनुसार समाज को अधिकार और भागीदारी देने का कार्य करे।


समारोह का संचालन जयप्रकाश शर्मा तथा अध्यक्षता देवचन्द्र शर्मा ने किया। समारोह को अखिल भारतीय विश्वकर्मा महासंघ के संयोजक वेदप्रकाश शर्मा, मिथिलेश शर्मा उर्फ मधुकर, बी0के0 शर्मा, पूर्व उपप्रमुख देवेन्द्र शर्मा, रमित शर्मा, देव सुन्दर शर्मा, अशोक शर्मा, देवराज शर्मा, रामप्रवेश शर्मा, अमृतराज शर्मा, रामदेव शर्मा, मनोज शर्मा, राजेश शर्मा, अनीता शर्मा पार्षद, सुमन शर्मा पार्षद, एडवोकेट सुजित शर्मा, एडवोकेट निरंजन शर्मा, संतकुमार शर्मा, मनोज शर्मा, दीपक शर्मा, लक्ष्मी शर्मा, आचार्य दिनेशानन्द शर्मा, मुनेश्वर शर्मा, टुनटुन शर्मा, दिलीप शर्मा, प्रभाकर शर्मा, चन्दन शर्मा सहित आदि विश्वकर्मा समाज के लोगों ने सम्बोधित।
—शिव प्रकाश विश्वकर्मा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *