You are here

पार्वती जांगिड़ ने बीएसएफ जवानों को राखी बांध मनाया भारत रक्षा पर्व

जोधपुर। महिला गौरव पार्वती जांगिड़ हर साल भारत रक्षा पर्व (रक्षाबंधन) के अवसर पर अंतर्राष्ट्रीय बार्डर पर तैनात जवानों को राखी बांधकर उनकी दीर्घायु की मंगलकामना करती हैं। वह जवानों को राखी बांधने के लिये निडर होकर बार्डर पर जाती हैं। इस बार उन्होंने इसकी शुरूआत बीएसएफ के महानिदेशक के0के0 शर्मा को राखी बांधकर तथा समापन पंजाब फ्रंटियर मुख्यालय में आईजी मुकुल गोयल व डीआईजी के0एस0 कटियार को राखी बांधकर किया।
पार्वती 5 दिन तक लगातार बार्डर की विभिन्न चौकियों पर तैनात फौजियों को राखी बांधकर भारत रक्षा पर्व मनाया, जो काबिले तारीफ व प्रेरणादायी है। पार्वती ने अटारी वाघा बार्डर, अमृतसर, फ़िरोज़पुर, अमरकोट, हुसैनीवाला, महावीर सादकी, जलालाबाद, फाजिल्का तथा जालंधर मुख्यालय पर तैनात फौजियों को राखी बांधा। पार्वती के इस हौंसले और सीमा प्रहरियों  बीएसएफ के प्रति लगाव को देखते हुए  पंजाब फ्रंटियर मुख्यालय में डीआईजी के0एस0 कटियार ने उन्हें स्मृति चिन्ह देकर सम्मान किया। 
ज्ञात हो राजस्थान के सीमावर्ती गांव गागरिया की निवासी सुश्री पार्वती जांगिड़ हर साल रक्षाबंधन का पर्व बार्डर पर तैनात जवानों की कलाई पर राखी बांधकर मनाती हैं। वह यूथ पार्लियामेंट की चेयरपर्सन होने के साथ ही विश्व के सबसे बड़े बेटी बचाओ—बेटी पढ़ाओ अभियान से भी जुड़ी हैं।
पार्वती ने हाल ही में "भारत श्री" अभियान चलाया है। उनका कहना है कि सरकार राजनीतिज्ञों, समाजसेवकों आदि को पद्मश्री इत्यादि सम्मान देती है, लेकिन शहीदों व उनके परिजनों को देश की जनता की तरफ से यह "भारत श्री" सम्मान है। देश की जनता से आवाहन किया है कि हमारे असली हीरो यह फौजी भाई हैं, शहीद के परिवार का ख्याल रखना हम सब देशवासियों का दायित्व है, इसे निभाना चाहिए। उन्होंने कहा कि शहीद व उनकी वीरांगना, माता व पिता के नाम के आगे "भारत श्री" लगाकर संबोधित करें। जैसे शहीद के पिताजी का नाम चंद्रसिंह है तो उन्हें "भारत श्री चंद्र सिंह जी" के नाम से संबोधित करें। इसके लिये पार्वती ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से 15 अगस्त को इसका आवाहन करने की मांग किया है।