विश्वकर्मा समाज जन्मजात इंजीनियर— गोपाल भइया

प्रतापगढ़। जिले के कुण्डा नगर स्थित एक मैरिज हाल में 13 अक्टूबर को विश्वकर्मा विकास परिषद द्वारा राष्ट्रीय विश्वकर्मा सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन में समाज को संगठित कर मजबूत बनाने पर चर्चा की गई। सम्मेलन का शुभारम्भ मुख्य अतिथि एमएलसी कुंवर अक्षय प्रताप सिंह उर्फ गोपाल भइया ने भगवान विश्वकर्मा के चित्र के सामने दीप प्रज्ज्वलित करके किया।


इस दौरान उन्होंने कहा कि पूरे विश्व को नई दिशा देने वाला विश्वकर्मा समाज जन्मजात इंजीनियर है। उन्होंने कहाकि विश्वकर्मा समाज ने अपने शिल्पकला और ज्ञान से देश की सच्ची सेवा की है। विश्वकर्मा समाज के लोगों ने सुई से लेकर जहाज तक का निर्माण कर राष्ट्र निर्माण में अपनी अहम भूमिका निभाई। लेकिन आजादी के इतने दिन बीत जाने के बाद भी इस समाज को राजनैतिक भागीदारी नहीं मिल पाई। श्री सिंह ने कहा कि हमारे मुखिया कुंवर रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया ने जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी का गठन किया है। जिसमें पिछड़े समाज के लोगों को आबादी के हिसाब से राजनैतिक भागीदारी दिलाने का प्रयास किया जाएगा।


अखिल भारतीय विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्वमन्त्री राम आसरे विश्वकर्मा ने कहा कि विश्वकर्मा समाज का इतिहास बहुत ही गौरवशाली रहा है। हमारे कई पूर्वजों ने संघर्ष के बल पर सम्मानजनक स्थान प्राप्त किया है। उन्होंने कहा कि हम संगठित रहेंगे तभी हमारा मान सम्मान और स्वाभिमान सुरक्षित रहेगा। इससे हमारी शक्ति लगातार बढ़ती जाएगी और सरकार हमारी मांगे स्वीकार करने को बाध्य होगी।


बाबागंज विधायक विनोद सरोज ने कहा कि देश के निर्माण में विश्वकर्मा समाज का बहुमूल्य योगदान है। खेती-किसानी से लेकर औद्योगिक विकास में विश्वकर्मा वंशियों ने अपने कौशल, कला और इंजीनियरिंग से समाज की सेवा की है। विश्वकर्मा डेवलपमेंट सोसायटी दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष के0के0 विश्वकर्मा ने कहा कि जिस समाज के लोग संगठित होते हैं, वह समाज उतना ही मजबूत होता है। साथ ही संगठन में सरकार बनाने बिगाड़ने की शक्ति होती है। वहीं, संगठित होकर अपनी बात रखते है तो उसकी वजूद रहती है। आपकी बात सुनी जाती है। सम्मेलन में देश के कई प्रदेशों से विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया।


विश्वकर्मा विकास परिषद के संस्थापक राम मिलन विश्वकर्मा, राष्ट्रीय संगठन सचिव हरिशंकर विश्वकर्मा, लक्ष्मण विश्वकर्मा, मध्य प्रदेश के अध्यक्ष एडवोकेट किशन विश्वकर्मा, विश्वकर्मा महासभा उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र विश्वकर्मा, विश्वकर्मा विकास एवं सुरक्षा समिति के संस्थापक आचार्य आशुतोष विश्वकर्मा, अखिल भारतीय विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के राष्ट्रीय महासचिव राजेश विश्वकर्मा, मणिराज विश्वकर्मा, विश्वकर्मा डेवलपमेंट सोसाइटी के उपाध्यक्ष रामविशाल विश्वकर्मा, प्रवक्ता डॉ0 शिवप्रसाद, विश्वकर्मा ब्रिगेड जौनपुर के अध्यक्ष शिवकुमार विश्वकर्मा, वाराणसी से बृजेश विश्वकर्मा, बिहार से राजकुमार शर्मा आदि ने समाज की मजबूती पर बल देते हुये अपने विचार रखे।


इस दौरान समाज के वरिष्ठ समाजसेवी बृजलाल विश्वकर्मा, राम कैलाश विश्वकर्मा, राम अजोर विश्वकर्मा, राम कुमार विश्वकर्मा, महिला समाज सेवी निर्मला शर्मा, मीना विश्वकर्मा, डॉ0 रश्मि शर्मा, रंजना विश्वकर्मा, चिकित्सक डॉ0 मुन्ना लाल विश्वकर्मा, डॉ0 मदन विश्वकर्मा, डॉ0 शिवलाल विश्वकर्मा, डॉ0 कमलेश विश्वकर्मा, डॉ0 नित्यम विश्वकर्मा, विश्वकर्मा किरण पत्रिका के संपादक कमलेश प्रताप विश्वकर्मा, भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ तहसील इकाई कुंडा केे अध्यक्ष कुलदीप कुमार विश्वकर्मा, राष्ट्रीय सहारा के पत्रकार बृजेश विश्वकर्मा, सज्जन विश्वकर्मा, सोनू विश्वकर्मा, एसवी न्यूज़ के पत्रकार संजय विश्वकर्मा, समाजसेवी अरविन्द विश्वकर्मा लखनऊ, पत्रकार व लेक्चरर पवन शर्मा लखनऊ, उमेश विश्वकर्मा अमेठी, विश्वकर्मा मंदिर मानिकपुर के अध्यक्ष राम लखन विश्वकर्मा, विश्वकर्मा मंदिर नरियावां के अध्यक्ष गिरीश विश्वकर्मा, विश्वकर्मा मंदिर धनगढ़ के अध्यक्ष छोटेलाल, भण्डारे के संचालक चौरिंग मंदिर के अध्यक्ष पारसनाथ विश्वकर्मा, उत्तर प्रदेश सचिवालय में निजी सचिव रमेश चंद्र विश्वकर्मा, समीक्षा अधिकारी दिनेश विश्वकर्मा, श्यामबाबू विश्वकर्मा, समाज केे आचार्य विश्वकर्मा मंदिर मानिकपुर के पुजारी स्वामी सिद्धांत आचार्य जी महाराज, पंडित जगदेव विश्वकर्मा, आचार्य हरीओम शास्त्री, पं0 राम मिलन विश्वकर्मा, पं0 राम सुन्दर विश्वकर्मा आदि लोगों को सम्मानित किया गया।


कार्यक्रम के अंत में सम्मेलन के आयोजक विश्वकर्मा विकास परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्यामलाल विश्वकर्मा ने आए हुए अतिथियों के प्रति आभार प्रकट किया। इस मौके पर राजा भैया के प्रतिनिधि हरिओम शंकर श्रीवास्तव, ब्लाक प्रमुख कुंडा संतोष सिंह, प्रधान ध्यानी सिंह, विनोद विश्वकर्मा, सदाशिव विश्वकर्मा प्रयागराज, उमेश कार्तिक, कवि नीलेश नादान, शैलेंद्र विश्वकर्मा बाराबंकी, सागर विश्वकर्मा गौरीगंज, अश्विनी विश्वकर्मा फतेहपुर, राजकुमार विश्वकर्मा ऊंचाहार, संतोष विश्वकर्मा हरदोई, दिल्ली के दिलीप विश्वकर्मा, रामबाबू, सरयू प्रसाद, विजय कांत विश्वकर्मा, राजेंद्र विश्वकर्मा, अमृत लाल विश्वकर्मा, संदीप राज प्रयागराज, भरतव्यास शर्मा एडवोकेट, संतोष जी वृंदावन, मनीष विश्वकर्मा खानीपुर , राजेश विश्वकर्मा, मौलिक अधिकार पार्टी के जिला सचिव अमरदेव विश्वकर्मा, राजाराम, शिक्षक अजय विश्वकर्मा नैनी समेत हजारों की संख्याा में विश्वकर्मा समाज के लोग मौजूद रहे। लोगों ने भगवान जगन्नाथ के भण्डारे का प्रसाद भी ग्रहण किया।
जादूगरों ने किया अपनी कला का प्रदर्शन—
विश्वकर्मा समाज के राष्ट्रीय सम्मेलन में बाराबंकी के राम सागर विश्वकर्मा, सतना के ललित कुमार विश्वकर्मा एवं जौनपुर के श्याम लाल विश्वकर्मा ने अपनी जादू कला का अनोखा प्रदर्शन कर लोगों को तालियां बजाने पर मजबूर कर दिया।
निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर में सैकड़ों मरीजों का हुआ परीक्षण—
आयोजित विश्वकर्मा समाज के राष्ट्रीय सम्मेलन में विनीता हॉस्पिटल फाफामऊ के निदेशक डॉ0 बिंदू विश्वकर्मा के निर्देशन में नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में डॉ0 नवनीत की अगुवाई में चिकित्सकों की टीम ने लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कर नि:शुल्क दवाएं वितरित की। इसी प्रकार रायबरेली के एक्यूप्रेशर चिकित्सक आर0के0 शर्मा ने भी एक्यूप्रेशर इलाज के बाबत जानकारी दी।

रिपोर्ट— कुलदीप कुमार विश्वकर्मा

1 thought on “विश्वकर्मा समाज जन्मजात इंजीनियर— गोपाल भइया

  1. इतनी अच्छी कवरेज ,जानकारी, समाज को उपलब्ध कराने के लिए आप सभी साथियों को साधुवाद देता हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *