मुम्बई के विकास में कारीगरों का अहम योगदान

मुम्बई। देश की आर्थिक राजधानी मुम्बई की जो रौनक हम सब देख रहे है उसमें कारीगरों का खास योगदान है। लोगों के सुख सुविधाओं में कारीगरों के श्रम साधना को भुलाया नहीं जा सकता। मालाड (पश्चिम) स्थित श्री धूड़मल बजाज हाल में भवन निर्माण व आन्तरिक साज-सज्जा से जुड़े कारीगरों की सामाजिक संस्था कारपेंटर्स वेलफेयर एसोसिएशन के वार्षिक स्नेह सम्मेलन ‘एक शाम कारपेंटरों के नाम’ कार्यक्रम में भाजपा मुम्बई सचिव समीर देसाई ने उक्त बातें कही।


उन्होंने कहा कि मुंबई में बनने वाली इमारतों में भले ही उद्योगपतियों के पैसे लगते हों मगर कारीगरों के श्रम से ही इमारत खड़ी हो पाती है। उन्होंने कारीगरों से आवाहन किया कि कारीगर वर्ग अपने आपको पिछड़ा नहीं समझे बल्कि अपनी मेहनत पर भरोसा करते हुए मुम्बई को संवारने का काम करते रहें।
समारोह को सम्बोधित करते हुये पत्रकार डॉ0 उरुक्रम शर्मा ने कहा क़ि विश्वकर्मा समाज को कारीगरी गॉड गिफ्ट है, इनके बिना सुखमय जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती। ईमारत निर्माण से लेकर घर की आन्तरिक साज सज्जा विश्वकर्मा समाज के द्वारा ही किया जाता है।


पत्रकार अजय भट्टाचार्य ने कहा कि भगवान के अवतारों में भगवान विश्वकर्मा निर्मित राम सेतु आज भी साक्ष्य के तौर पर मौजूद है जिसे वैज्ञानिकों ने भी 10 लाख साल पुराना बताया है। उन्होंने कहा कि राम सेतु मानव निर्मित है जिसे बाइबिल में एडम ब्रिज कहा गया है जिसका अर्थ आदम पुल है। आदम को ही मानव उत्पत्ति बताया गया है। उन्होंने कहा कि मुम्बई की जो रौनक हम सब देखते है उसमें कारीगरों का खास योगदान है, लोगों की सुख सुविधाओं में कारीगरों के श्रम साधना को भुलाया नहीं जा सकता।
पत्रकार प्रमोद पाण्डेय ने कहा कि मुम्बई में विश्वकर्मा समाज संगठित समाज है। उन्होंने कार्यक्रम की प्रसंशा करते हुए कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से कारीगरों को नई तकनीकी के बारे में जानकारी मिलेगी जो उनके रोजगार के लिए बेहतर साबित होगा।


संस्था अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण विश्वकर्मा ने कहा कि हमें विश्वकर्मा वंशज होने का अभिमान है। कारीगरी हमारे खून में है मगर बदलते समय के साथ हमें खुद को भी तराशना होगा ताकि प्रतियोगिता के दौड़ में हम मुकाबला कर सकें। समारोह में श्री विश्वकर्मा समाज दहिसर के अध्यक्ष रमाशंकर विश्वकर्मा को सामाजिक उत्थान कार्य हेतु पुरस्कार ‘श्री विश्वकर्मा समाज रत्न २०१८’ से सम्मानित किया गया।


इस अवसर पर सुरेन्द्र मिश्रा, डॉ0 आर0आर0 विश्वकर्मा, छत्तीसगढ़ गायिका एवं फिल्म अभिनेत्री उषा विश्वकर्मा, पतिराज विश्वकर्मा, शिवप्रकाश विश्वकर्मा, रामशब्द विश्वकर्मा, कड़ेदीन विश्वकर्मा, राधेश्याम विश्वकर्मा, हरिशचन्द्र विश्वकर्मा, अंगद विश्वकर्मा, शिवलाल सुथार, राजकुमार विश्वकर्मा, अनिल विश्वकर्मा आदि सहित विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के पदाधिकारियों का सम्मान किया गया।
कार्यक्रम का संचालन गंगाराम विश्वकर्मा ने किया जबकि संस्था के महामन्त्री दिनेश विश्वकर्मा ने आभार व्यक्त किया। गोदरेज लॉकिंग सोलुशन एंड सिस्टम्स, ग्रीन पैनल, दिव्यराज वेलूहोम, इको प्रो, यूरो एडहेसिव प्रायोजित इस समारोह में लोकगायक सुरेश शुक्ल व राधा मौर्य ने सम-सामयिक गीत प्रस्तुत कर लोगों को भाव विभोर कर दिया।

1 thought on “मुम्बई के विकास में कारीगरों का अहम योगदान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: