अम्बेडकर की सबसे ऊंची प्रतिमा बनाएंगे विश्वकर्मावंशी पद्मश्री राम वी0 सुतार

Spread the love

मुम्बई। मुम्बई के दादर में इंदू मिल परिसर में लगने वाली बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा के निर्माण का काम महाराष्ट्र सरकार ने प्रसिद्ध मूर्तिकार विश्वकर्मावंशी पद्मश्री राम वी0 सुतार को सौंपा है। 250 फीट ऊंची यह मूर्ति दुनिया में अब तक की अम्बेडकर की सबसे ऊंची प्रतिमा होगी, जिसे दो साल में तैयार किया जाएगा।
राम सुतार के नोएडा स्टूडियो में होगा मूर्ति का निर्माण—
मूर्ति का निर्माण राम वी0 सुतार के नोएडा स्टूडियो में किया जाएगा। उनके स्टूडियो में बने डिजाइन के आधार पर चीन में सांचा तैयार किया जाएगा, जिससे अम्बेडकर की कांसे की प्रतिमा तैयार होगी। इंदू मिल में इसके अलावा अम्बेडकर की 25 फीट की प्रतिमा भी लगेगी। जिसे राम वी0 सुतार तैयार कर चुके हैं। मुम्बई में ही लगने वाली छत्रपति शिवाजी की 398 फीट ऊंची विश्व की सबसे ऊंची मूर्ति और गुजरात के भरूच में लगने वाली 597 फीट ऊंची सरदार पटेल की मूर्ति का निर्माण भी राम वी0 सुतार कर रहे हैं।


इंदू मिल की जमीन पर बन रहा अम्बेडकर स्मारक—
महाराष्ट्र सरकार मुम्बई के दादर में स्थित शिवाजी पार्क के इंदू मिल की जमीन पर 12.4 एकड़ जमीन पर 425 करोड़ की लागत से अम्बेडकर स्मारक का निर्माण करा रही है। 14 अप्रैल 2020 तक स्मारक का कार्य पूरा होना है। 14 अप्रैल को बाबा साहेब की जयंती मनाई जाती है। 2015 में प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने स्मारक का भूमि पूजन किया था। यह जमीन पहले केंद्र सरकार के पास थी। पिछले साल केंद्र सरकार ने जमीन महाराष्ट्र सरकार को हस्तांतरित कर दी थी।
इंदू मिल की जमीन पर क्यों बन रहा अम्बेडकर स्मारक—
6 दिसंबर 1956 को अम्बेडकर का निधन दिल्ली में हुआ था, लेकिन उनका अंतिम संस्कार मुम्बई में समुद्र किनारे किया गया था। यहां एक स्मारक है, जिसे चैत्यभूमि कहते हैं। इसी के बगल में इंदू मिल है। यहां काफी समय से अम्बेडकर स्मारक बनाने की मांग हो रही थी। इसी कारण इंदू मिल और चैन्यभूमि की जमीन को मिलाकर अम्बेडकर स्मारक बनाने का निर्णय हुआ।
दलित वर्ग को होगा गौरव का बोध—
मोदी सरकार बनने के बाद दलितों में गौरव बोध कराने के लिए किए गए कार्यों में से इसे एक बड़ा कदम माना जा रहा है।
अम्बेडकर स्मृतियां संजोने के लिए मोदी सरकार के अन्य कार्य—
-अलीपुर रोड दिल्ली में अम्बेडकर स्मारक
-15 जनपथ दिल्ली में अम्बेडकर इंटरनेशनल सेंटर
-10 किंग हेनरी रोड लंदन में अम्बेडकर स्मारक
अम्बेडकर प्रतिमा से जुड़ी कुछ अन्य जानकारी—
-मूर्ति को सौ फीट ऊंचे बेस पर रखा जाएगा।
-बेस में बौद्ध धर्म की झलक होगी।
-जमीन तल से प्रतिमा की पूरी ऊंचाई 350 फीट होगी।
-मूर्ति के बेस में कमल के फूल बने होंगे।

”यह दुनिया की अब तक की अम्बेडकर की सबसे ऊंची प्रतिमा होगी। इसका डिजाइन संसद भवन में लगी अम्बेडकर प्रतिमा की तरह होगा।”
-पद्मश्री राम वी0 सुतार, प्रसिद्ध मूर्तिकार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *