भगवान विश्वकर्मा महापुरूष नहीं, प्रत्यक्ष देवता हैं— महेन्द्रनाथ पाण्डेय

Spread the love

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डा0 महेन्द्रनाथ पाण्डेय ने कहा कि भगवान विश्वकर्मा कोई महापुरूष नहीं बल्कि प्रत्यक्ष देवता हैं। भगवान विश्वकर्मा देवताओं के भी देव हैं। सभी देवताओं ने समय—समय पर भगवान विश्वकर्मा की आराधना कर कुछ न कुछ प्राप्त किया है। श्री पाण्डेय लखनऊ के विश्वेश्वरैया सभागार में भाजपा ओबीसी मोर्चा द्वारा आयोजित सामाजिक प्रतिनिधि बैठक के अन्तर्गत विश्वकर्मा वंशीय समाज को सम्बोधित कर रहे थे।


प्रदेश भाजपा अध्यक्ष डा0 महेन्द्रनाथ पाण्डेय ने सामाजिक प्रतिनिधि बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार ने पिछड़े वर्ग के लोगों के कल्याण के लिए कृत संकल्पित होकर काम किया है। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म में विश्वकर्मा भगवान मात्र महापुरूष नहीं बल्कि प्रत्यक्ष देवता हैं, जिनका हर मंत्रोच्चार में उल्लेख होता है। देश पर जब—जब भी संकट आया विश्वकर्मा समाज के लोगों ने उस संकट से देश को उबारने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। डा0 पाण्डेय ने कहा कि आज भी देश में कुछ अवसरवादी दल सिर्फ सत्ता पाने के लिए न सिर्फ विश्वकर्मा समाज बल्कि पूरे पिछड़े वर्ग के लोगों का इस्तेमाल वोट बैंक के रूप में ही कर रहे हैं। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि चाहे केन्द्र की मोदी सरकार हो या प्रदेश की योगी सरकार दोनों ने पिछड़े वर्ग के लोगों के कल्याण के लिए कई योजनाएं बनाकर उनको लागू करने का काम किया है।


डा0 पाण्डेय ने बैठक में उपस्थित लोगों से अपील की कि वे लोकसभा चुनाव में भाजपा के साथ जुड़कर विश्व में भारत का मान बढ़ाने के लिए नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में एक सशक्त सरकार बनाने का मार्ग सुनिश्चित करें।
सामाजिक प्रतिनिधि बैठक को सम्बोधित करते हुए उपमुख्यमन्त्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि पिछड़ा वर्ग जब मोर्चा संभालता है और जिसके साथ खड़ा हो जाता है उसकी नैया पार करा देता है। उन्होंने कहा कि सपा, बसपा, कांग्रेस के साथ पिछड़ा वर्ग जब खड़ा हुआ उसकी नैया पार हो गयी पर अब उनकी नैया डुबोने का वक्त आ गया है, क्योंकि आज पिछड़ा वर्ग समझ चुका है कि सपा, बसपा, कांग्रेस उसका कल्याण नहीं कर सकता है।


श्री मौर्य ने कहा कि प्रधानमंत्री स्वयं पिछड़े वर्ग से आते हैं और उन्हें सभी वर्गो ने 2014 में प्रधानमंत्री बनाने के लिए वोट किया। अब 2019 के लिए एक बार पुनः पिछड़ा वर्ग को मोदी को पुनः प्रधानमंत्री बनाने के लिए चट्टान की तरह खड़ा होना है। उन्होंने कहा कि 2014 में 73 सांसद यूपी से जीतकर गये थे लेकिन 2019 में राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तर प्रदेश से अपील की है कि इस बार कम से कम 74 सांसद बनाना है। इसलिए एक नारा मैं देता हूॅ कि ‘मोदी जी की दूसरी पारी, पिछड़े वर्ग की जिम्मेदारी।’


उन्होंने कहा कि आज पूरे देश-प्रदेश में प्रधानमन्त्री मोदी के लिए जो अनुकूलता है उसे बताने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि कि गांव-गांव यह नारा गूंजना चाहिए कि ‘पिछड़ा वर्ग का है संदेश—सपा-बसपा व कांग्रेस मुक्त उत्तर प्रदेश।’
उन्होंने कहा कि अगर प्रधानमंत्री के पद पर नरेन्द्र मोदी न होते तो क्या आज गरीबों के बैंक खाते, आवास, शौचालय, गैस कनेक्शन मुफ्त मिल पाते? उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने की मांग होती रही, आज पिछड़ा वर्ग की शासन, प्रशासन, नौकरियों में बड़ी हिस्सेदारी है। प्रधानमन्त्री के रूप में यशस्वी नरेन्द्र मोदी ने पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा दिलाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि सपा-बसपा-कांग्रेस होती तो यह आयोग कभी न बना पाता। श्री मौर्य ने कहा कि पहले पक्का घर केवल अमीरों के बनते थे आज प्रधानमंत्री आवास योजना के माध्यम से 15 महीनों में गरीबों के लिए 15 लाख घर बनाने का काम प्रधानमंत्री मोदी ने किया है।
उपमुख्यमन्त्री श्री मौर्य ने भगवान विश्वकर्मा की महिमा के साथ ही विश्वकर्मा वंशीय समाज के योगदान का भी उल्लेख किया। कहा कि इस समाज को सम्मान देना उनकी जिम्मेदारी है।


भाजपा नेताओं ने विश्वकर्मा वंशीय समाज को पूरा सम्मान देने का आश्वासन दिया। कहा कि भाजपा कभी वादा नहीं करती बल्कि करके दिखाती है। 17 सितम्बर विश्वकर्मा पूजा अवकाश के मुद्दे पर कहा कि इसके लिये मुख्यमन्त्री से बात करके बहाली का प्रयास किया जायेगा। इसके साथ ही विश्वकर्मा के नाम पर चलाई जा रही योजनाओं में परम्परागत कारीगरों को ज्यादा से ज्यादा लाभ दिलाने का प्रयास किया जायेगा। पार्टी द्वारा कार्यक्रम आयोजित होने के कारण समाज ने कोई भी मांग नहीं रखी बल्कि समाज के लोगों ने अपने सम्बोधन में सरकार या सदन में विश्वकर्मा समाज का कोई प्रतिनिधित्व न होने का अहसास जरूर कराया।
कार्यक्रम को भाजपा ओबीसी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद राजेश वर्मा, पूर्व कुलपति पी0सी0 पातंजलि, अध्यक्ष समाज कल्याण निर्माण निगम बी0एल0 वर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष बाबूराम निषाद, संयोजक बुद्धलाल विश्वकर्मा, पूर्व राज्यमन्त्री डा0 कृष्ण मुरारी विश्वकर्मा, भाजपा जिलाध्यक्ष वाराणसी हंसराज विश्वकर्मा, पश्चिमी क्षेत्र उपाध्यक्ष डा0 प्रमेन्द्र जांगड़ा, प्रो0 बी0डी0 शर्मा, जगदीश पांचाल, ओमपाल पांचाल, दिनेश वत्स आदि लोगों ने सम्बोधित किया।
इस मौके पर होरीलाल शर्मा, राम कैलाश विश्वकर्मा, श्याम सुन्दर विश्वकर्मा, राम कैलाश शर्मा, संजय धीमान, त्रिपुणायक विश्वकर्मा, डा0 सी0पी0 शर्मा, महेन्द्र विश्वकर्मा, प्रमोद विश्वकर्मा, अरविन्द विश्वकर्मा, अमित विश्वकर्मा, सुनील पांचाल, सुभाष पांचाल, सीमा शर्मा, गीता विश्वकर्मा, अखिलेश मोहन, अरूण विश्वकर्मा, संजय विश्वकर्मा, अमर जी विश्वकर्मा, शत्रुघ्न मिश्र (विश्वकर्मा), अजय विश्वकर्मा, शशिकान्त शर्मा, राकेश पांचाल, मनोज कुमार शर्मा, रामधनी विश्वकर्मा, राजेश विश्वकर्मा, सह प्रभारी पिछड़ा वर्ग मोर्चा बृज बहादुर, राज किशोर मौर्य, विनय पटेल (एडवोकेट) सहित बड़ी संख्या में अन्य लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *