गुजरात के कच्छ जिले में हुआ विश्वकर्मा भवन का भूमि पूजन

कच्छ। जिले के अंजार गंगानाका के पास कच्छी लोहार समाज द्वारा प्रस्तावित विश्वकर्मा भवन निर्माण हेतु भूमि पूजन प्रसिद्ध विश्वकर्मा कथावाचक जयन्ती भाई शास्त्री महाराज के कर कमलों द्वारा स्वामिनारायण मंदिर के महंत स्वामि भगवंतदासजी एवं श्यामकृष्णदासजी महाराज के सानिध्य में सम्पन्न हुआ।


इस पावन अवसर पर भगवान विश्वकर्मा के धर्म प्रचारक एवं भारत वर्ष के प्रसिद्ध संगीतमय भगवान विश्वकर्मा पुराण कथावाचक जयन्ती भाई शास्त्री महाराज की पावन उपस्थिति रही। शास्त्रीजी ने अपने प्रवचन में आशिर्वचन देते हुए समाज के इस कार्य को सराहनीय बताया। कहा कि यह विश्वकर्मा भवन समाज की एकता एवं विकास के निमित्त बनेगा। आज के समय की यही मांग है कि समाज के सामाजिक एवं धार्मिक कार्यक्रम के लिए अपना खुद का भवन हो।


स्वामिनाराययण मन्दिर के संतो ने समाज के इस कार्यक्रम में उपस्थिति रहते हुए समाज के लोगों को इस सामाजिक कार्य के लिए साधुवाद दिया। इस सामाजिक कार्यक्रम में पूरे कच्छ प्रान्त से समाज के कार्यकर्तागण एवं सामाजिक संस्था के पदाधिकारीगण उपस्थिति रहे। संस्था के अध्यक्ष प्रकाश आसोडीया, उपाध्यक्ष किशोर पढारिया, कोषाध्यक्ष हिंमत पंचोली एवं ट्रस्ट मेम्बर जयेशभाई, कन्हैयालाल, दीपक पित्रोडा वगेरे ने इस कार्य को सफल बनाने के लिए प्रयास किया। इस प्रस्तावित भवन के बारे में अध्यक्ष प्रकाश आसोडीया ने बताया कि पूरे देश और दुनिया से गुजरात के कच्छ में टूरिस्ट आते हैं और कच्छ की ऐतिहासिक धरोहर के दर्शन करते हैं। इस टूरिस्ट मे विश्वकर्मा वंशज भी आते हैं, उन सभी विश्वकर्मा बंधु को गुजरात कच्छ में आते समय अपने परिवार के उत्तम सुविधा मिल सके इसी सुविधा हेतु से इस भवन का निर्माण किया जा रहा है।


अपने विश्वकर्मा बंधु को इस भवन मे रहने की और भोजन की उत्तम सुविधा दी जायेगी। साथ—साथ कच्छ दर्शन के लिए वाहन की व्यवस्था भी उपलब्ध कराई जायेगी। भवन मे सीसीटीवी कैमरे एवं वाईफाई की सुविधा, साउन्ड सिस्टम तथा एसी कमरे होगें। इसके साथ ही समाज के बच्चों के लिए कम्प्यूटर शिक्षा, नि:शुलक शिक्षा एवं समाज की बेटियों के लिए ​उत्तम शिक्षा हेतु भवन बनाया जायेगा।


इस अवसर पर समाज के भामाशाहों ने कथावाचक जयन्ती भाई शास्त्री महाराज की प्रेरणा से करीब 10 लाख रुपये के दान की घोषणा की। इस सामाजिक कार्यक्रम में समाज के प्रतिष्ठित लोग हरीभाई पढारिया, शिवजीभाई उमरानीया, जेठालाल उमरानीया, किशोरभाई मकवाणा, रामलाल परमार, शांतिलाल पित्रोडा, विऩोदभाई दावडा सहित काफी संख्या में लोगों ने उपस्थित होकर कार्यक्रम को सफल बनाया।

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*