विश्वकर्मा परिचय सम्मेलन में बोले कृषि मन्त्री, कमजोर का हाथ थाम कर चलना ही समाज की सच्ची सेवा

रायपुर। समाज के कमजोर परिवार का हाथ थामकर चलना ही सही मायने में समाज की सच्ची सेवा है। यह बातें कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने विश्वकर्मा महासम्मेलन में कही। छत्तीसगढ़ विश्वकर्मा (झेरिया लोहार) समाज के प्रदेश स्तरीय पारिवारिक मिलन और युवक-युवती परिचय महासम्मेलन हुआ। इसमें बतौर मुख्य अतिथि कृषि और सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल शामिल हुए। विश्वकर्मा समाज के कर्णधार भी इसी ध्येय के साथ आगे बढ़ रहे हैं और अपने समाज की बेहतरी के लिए सद्प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि विवाह योग्य युवक-युवती परिचय सम्मेलन जैसा आयोजन किया जाना समाज की बदलती सोच को साबित करता है जो सभी के लिए प्रेरणादायक है। इस अवसर पर उन्होंने सामाजिक भवन निर्माण के लिए 5 लाख रुपए प्रदान करने की स्वीकृति दी।
अपने हुनर को ही रोजगार बनाएं—
मन्त्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि विश्वकर्मा समाज को भगवान विश्वकर्मा की कृपा से हुनर प्राप्त है। आज की पीढ़ी को चाहिए कि ईश्वर प्रदत्त अपने हुनर को ही रोजगार बनाएं। आप नौकरी मांगने वाले नहीं देने वाले बनें। उन्होंने कहा कि परिचय सम्मेलन के बाद सामूहिक विवाह का भी आयोजन होना चाहिए ताकि नवविवाहितों को पूरे समाज का आशीर्वाद मिल सके।
एकजुटता के साथ गरीबों की मदद को आगे आए समाज—
मंत्री अग्रवाल ने कहा कि कोई भी समाज आगे तब तक नहीं बढ़ सकता जब तक समाज के कमजोर तबके का भला न हो जाए। ऐसे में समाज को एकजुटता के साथ ऐसे गरीब परिवार की मदद करने को आगे आना चाहिए। गरीब की बेटी का ब्याह, उसके बच्चे की शिक्षा और किसी गम्भीर बीमारी में इलाज की मदद के लिए यथाशक्ति सभी तत्पर रहें तो निश्चित रूप से समाज के प्रति समर्पण का भाव सामाजिक लोगों में जागेगा। इस
अवसर पर समाज के कालूराम विश्वकर्मा, विष्णु विश्वकर्मा, कृपाराम विश्वकर्मा, बुधेराम विश्वकर्मा, रामगुलाम विश्वकर्मा, धनीराम विश्वकर्मा, शंकर विश्वकर्मा, जे0के0 विश्वकर्मा, गोविंद विश्वकर्मा आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *